रश्मिरथी - कृष्ण की चेतावनी (रामधारी सिंह "दिनकर")


मैत्री की राह बताने को,

सबको सुमार्ग पर लाने को,

दुर्योधन को समझाने को,

भीषण विध्वंस बचाने को,

भगवान् हस्तिनापुर आये,

पांडव का संदेशा लाये।


‘दो न्याय अगर तो आधा दो,

पर, इसमें भी यदि बाधा हो,

तो दे दो केवल पाँच ग्राम,

रक्खो अपनी धरती तमाम।

हम वहीं खुशी से खायेंगे,

परिजन पर असि न उठायेंगे!


दुर्योधन वह भी दे ना सका,

आशीष समाज की ले न सका,

उलटे, हरि को बाँधने चला,

जो था असाध्य, साधने चला।

जब नाश मनुज पर छाता है,

पहले विवेक मर जाता है।


Versed by #Abhishek_Bhargava

Video & Editing by #Rashi_Shrivastava

#hindipoem#dinkar#rashmirathi#hindikavita #learningsutras #hindipoetry

10 views
  • Twitter

©2019 Learning Sutras by Mitali Badkul & Nayan Sharma

DISCLAIMER - Members are accountable for their own content.